हमारीवाणी

www.hamarivani.com

Labels

Popular Posts

Sunday, January 12, 2014

नाराज नहीं किसी से






श्रवण शुक्ल

दर्द में भी मुस्कराए, लेकिन कोई समझ न पाए.. 
सारे गमों को छिपाए, लेकिन कुछ न सुनाए..
हर शाम जिए, बिना उफ किए..
चलती ही जाए, सबकुछ भुलाए..

हर दिन निकले, बिना कुछ कहे..
कुछ शायरी, कुछ नगमा गुन-गुनाए..
हालातों की कुछ शिकायत भी नहीं..
बस मुस्कराए, खामोशी से चलती जाए..

जो खुशियां मिली, उन्हें खुद में समेटती जाए..
खामोश सफर में अकेली, मगर नाराज नहीं किसी से
मेरी जिंदगी...
ऐ जिंदगी...ऐ जिंदगी... ऐ जिंदगी....

2 comments:

yashwant singh said...

वाह..क्या बात है... दिल को छू लिया...

yashwant singh said...

वाह..क्या बात है... दिल को छू लिया...

@ बिना अनुमति प्रकाशन अवैध. 9871283999. Powered by Blogger.

blogger